जर्मनी में मीनार और बुर्का पर बैन की मांग

0
410
आप्रवास विरोध पर जर्मनी में राजनीतिक हलचल

बर्लिन,  जर्मनी की तेजी से बढ़ रही आप्रवास विरोधी दक्षिण पंथी पार्टी आल्टरनेटिव फॉर जर्मनी ने यहाँ रविवार को चेतावनी दी है कि वह अगले दो सप्ताह में होने वाले  अपनी पार्टी के अधिवेशन में मीनारों और बुर्का पर बैन लगाने संबंधी प्रस्ताव  को पारित करने पर जोर डालेगी |
यूरोपियन संसद के सदस्य स्टार्च ने कहा , “ हम मीनारों पर बैन सहित पूरी तरह शरीर को ढकने की प्रथा के विरुद्ध हैं”

 

जर्मनी में सीरिया सहित अन्य देशों से आ रहे अप्रवासियों के संदर्भ में आप्रवास को लेकर चल रही बहस के बीच जर्मनी में तेजी से लोकप्रिय  हो रही दक्षिणपंथी पार्टियों के चलते जर्मनी के चांसलर एंजेला मार्केल  की पार्टी कंजर्वेटिव पार्टी ने भी बुर्का पर प्रभावी बैन लगाने का आह्वान किया है और कहा है कि मुस्लिम महिलाओं द्वारा पूरी तरह शरीर ढकने  को सार्वजनिक स्थलों पर स्वीकार नहीं किया जाना चाहिए|
जर्मनी में दक्षिणपंथी ए एफ डी का उभार समस्त योरप में आप्रवास विरोधी घोर दक्षिणपंथी राजनीतिक दलों के तेजी से लोकप्रिय होने की कड़ी का हिस्सा है जिसमें कि फ्रांस की नेशनल फ्रंट की लोकप्रियता ने जर्मनी में भी मुख्यधारा के राजनीतिक दलों में व्याप्त  आम सहमति के आधार पर मध्यमार्गी राजनीति में असंतुलन उत्पन्न कर दिया है|

 

पिछले महीने जर्मनी की ए एफ डी ने जर्मनी में एंजेला मार्केल के  गठबंधन में शामिल सोशल डेमोक्रेट को पीछे छोड़ते हुए एक प्रांत के चुनाव में  24 प्रतिशत मत प्राप्त किये थे | 2013 में स्थापित ए एफ डी ने दो अन्य प्रान्तों में भी काफी अच्छा प्रदर्शन किया था | वैसे इसकी लोकप्रियता के साथ इसकी आलोचना भी हो रही है और  जर्मनी में सरकार की सहयोगी सोशल डेमोक्रेट की सदस्य व  वाइस चांसलर सिगमार गैब्रियल ने इस पार्टी की आलोचना करते हुए कहा है कि ए एफ डी हिटलर के नाजियों की भाषा का उपयोग कर रही है | पर इन आरोपों के बाद भी ए एफ डी ने आप्रवास विरोध पर अपने रुख में कोई बदलाव नहीं किया है |