भारत पर दबाव बनाने में जुटा पाकिस्तान

0
451
नवाज के हाथ से निकलता पाकिस्तान

इस्लामाबाद, पाकिस्तान में कुलभूषण जाधव की गिरफ्तारी के बाद (जिसे पाकिस्तान ने भारत की खुफिया एजेंसी रा का एजेंट बताया है और जिसका भारत सरकार ने खंडन किया है) पाकिस्तान ने भारत पर सुनियोजित रणनीति के तहत दबाव बनाना आरम्भ कर दिया है और इसी  क्रम में गुरुवार को पाकिस्तान के विदेश विभाग ने अपनी साप्ताहिक प्रेस ब्रीफिंग में एक बार फिर भारत पर अपनी खुफिया एजेंसी रा के माध्यम से पाकिस्तान में  अस्थिरता फैलाने का आरोप लगाया और कहा कि कुलभूषण जाधव से पूछताछ के बाद रा के कई और सदस्यों को गिरफ्त्तार किया गया है जिनका खुलासा जल्द ही किया जाएगा |

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने  अपनी प्रेस ब्रीफिंग में संकेत दिए कि भारत के साथ कूटनीतिक स्तर पर बातचीत के विकल्प  खुले हैं और इसके लिए भारत कोई पूर्व शर्त न लगाये |

 

भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित के हाल के बयान के बाद कि भारत और पाकिस्तान के मध्य शांति प्रक्रिया फिलहाल स्थगित है पाकिस्तान के विदेश विभाग का यह नया बयान भी पाकिस्तान की रणनीति का हिस्सा माना जा रहा है और पाकिस्तान बातचीत टूटने का दोष भारत पर मढ़ना चाहता है |

 

पाकिस्तान के विदेश विभाग के प्रवक्ता ने पिछले साल दिसंबर में भारत के प्रधानमंत्री मोदी की पाकिस्तान यात्रा का हवाला देते हुए कहा कि उस बैठक में तय हुआ था कि दोनों पक्ष विदेश सचिव स्तर की बात के लिए कदम उठाएंगे और हमें उसी माहौल में आगे बढ़ते हुए किसी भी विकल्प को बंद नहीं करना चाहिए |

पठानकोट हमले  की जांच को लेकर पूछे गए सवाल पर विदेश विभाग के प्रवक्ता ने कहा कि पठानकोट से वापस लौटी टीम भारत की ओर से दिए गए सबूतों का आकलन कर रही है  और इस आकलन के बाद ही कुछ कहना उचित होगा न कि अटकलें  लगाना |

पाकिस्तान की वर्तमान रणनीति पूरी तरह स्पष्ट है कि एक ओर आक्रामक रूप से भारत पर पाकिस्तान के भीतर अस्थिरता का आरोप लगाकर अपने देश के भीतर और विश्व समुदाय में सहानुभूति लेना और  शांति प्रक्रिया बाधित होने के लिए आतंकवाद के बजाय भारत को ही दोषी बताकर अपनी शर्तों पर भारत  को  वार्ता के लिए विवश करना

इस बीच पाकिस्तान के कोट लखपत जेल में कैद भारतीय कैदी किरपाल सिंह की मौत को लेकर भी रहस्य के बादल बने हुए हैं , एक ओर जहां पाकिस्तान इस दिल का दौरा पड़ने से हुई मौत बता रहा है तो दूसरी ओर भारत में पाकिस्तान के इस दावे पर भी सवाल उठ रहे हैं | अविश्वास के इस वातावरण में भारत और पाकिस्तान के मध्य किसी बातचीत की पहल पर संशय के बादल छा रहे हैं |